NCERT क्या है? इसका उद्देश्य क्या है?

NCERT क्या है? इसका उद्देश्य क्या है?

क्या आप जानते है की NCERT क्या है? ये क्या काम करती है? इसका उद्देश्य क्या है? यदि नही जानते हैं तो आज आप सही  जगह पर आए है। आज के इस आर्टिकल में मैने NCERT से जुड़ी सारी जानकारी दी है।

तो बचपन से हम स्कूल में पढ़ने जाते है तो कक्षा 1 से लेकर के 12वी कक्षा तक सभी किताबो को NCERT ही प्रकाशित करता है और यू कहे तो देश की स्कूली कक्षा में कब क्या बदलाव लाना चाहिए, क्या पढ़ाई रहेगी यह सब काम NCERT के अंदर ही होता है।

तो आइए आज के इस आर्टिकल में जानते है NCERT का फूल फॉर्म क्या है? एनसीईआरटी क्या है?, NCERT का उद्देश्य क्या है?, NCERT की इतिहास, इसकी शुरुआत कैसे हुई और NCERT से जुड़ी जानकारी हिंदी में जानते है….

NCERT Full Form in Hindi –

NCERT का Full Form होता है “National Council of Educational Research and Training” और NCERT का हिन्दी में फुल फॉर्म होता है “राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद्

NCERT क्या है?

NCERT क्या है? इसका उद्देश्य क्या है?

National Council of Educational Research and Training (NCERT) यानी की राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद भारत सरकार द्वारा गठित एक स्वायत्त संगठन है।

जिसे 1961 में सोसायटी पंजीकरण अधिनियम के तहत एक साहित्यिक, वैज्ञानिक और धर्मार्थ सोसायटी के रूप में स्थापित किया गया था।

जिनका काम स्कूल के शिक्षा में गुणात्मक सुधार लाने के लिए नई नई नीतियां और कार्यक्रम करना और केंद्र और राज्य सरकार को सहायता और सलाह देता है। NCERT का मुख्यालय नई दिल्ली में श्री अरबिंदो मार्ग पर स्थित है और डॉ. श्रीधर श्रीवास्तव 2021 से इस परिषद के डायरेक्टर हैं।

NCERT का उद्देश्य क्या है?

NCERT की शुरुआत करने के पीछे इसके कुछ उद्देश्य थे, नीचे मैने NCERT के उद्देश्य के बारे में बताया है।

  • देश के हरेक बच्चे को एजुकेशन मिले।
  • देश में राष्ट्रीय पाठ्यचर्या की फ्रेमवर्क को लागू करने के लिए
  • प्रारंभिक शिक्षा का सार्वभौमीकरण
  • व्यावसायिक शिक्षा देना
  • देश में Girls child शिक्षा को बढ़ावा देना
  • स्कूलों में टीचर एजुकेशन में सुधार लाना
  • स्कूल में बच्चो के विचारो को बदलाव लाना

NCERT का इतिहास 

भारत सरकार के शिक्षा मंत्रालय ने 27 जुलाई 1961 को राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद (NCERT) की स्थापना करने का संकल्प लिया।जिसका औपचारिक रूप से 1 सितंबर 1961 को संचालन शुरू किया।

जिसका मुख्य उद्देश्य स्कूली शिक्षा से संबंधित शैक्षणिक मामलों पर राज्य और केंद्र सरकार को सहायता और सलाह देना था।जिसका गठन सात मौजूदा संस्थानों को मिलाकर किया गया था। इस संस्थान का नाम नीचे दिए हैं:

  • सेंट्रल इंस्टीट्यूट ऑफ एजुकेशन (1947)
  • सेंट्रल ब्यूरो ऑफ टेक्स्टबुक रिसर्च (1954)
  • सेंट्रल ब्यूरो ऑफ एजुकेशनल एंड वोकेशनल गाइडेंस (1954)
  • नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ बेसिक एजुकेशन (1956)
  • नेशनल फंडामेंटल एजुकेशन सेंटर (1956)
  • डायरेक्टरेट ऑफ एक्सटेंशन प्रोग्राम्स फॉर सेकंडरी एजुकेशन (1958)
  • नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ ऑडियो विजुअल एजुकेशन (1959)

NCERT की स्थापना एक common system को डिजाइन और सपोर्ट करने के एजेंडे के साथ की गई थी। शिक्षा आयोग की सिफारिशों के आधार पर, शिक्षा पर पहला राष्ट्रीय नीति वक्तव्य 1968 में जारी किया गया था। इस नीति ने देश भर में स्कूली शिक्षा के एक समान पैटर्न को अपनाने का सपोर्ट किया था।

जिसमें शुरुआती स्कूल के 10 साल का सामान्य शिक्षा कार्यक्रम एक समान और उसके बाद 2 साल की विविध स्कूली शिक्षा शामिल थी।

इसके बाद साल 1963 में एनसीईआरटी ने देश में राष्ट्रीय विज्ञान प्रतिभा खोज योजना की शुरुआत की थी, इस कार्यक्रम का उद्देश्य भारत में प्रतिभाशाली छात्रों की पहचान करना, उनका पोषण करना और उन्हें छात्रवृत्ति से पुरस्कृत करना था।

Final Conclusion –

दोस्तो आज के इस आर्टिकल में आपने जाना की NCERT क्या है? NCERT Full Form In Hindi, NCERT के मुख्य उद्देश्य और एनसीईआरटी के इतिहास के बारे में जाना।

मुझे उम्मीद है की अब आप NCERT यानी की राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद के बारे में जानकारी जान ली होगी। एनसीईआरटी से जुड़े कोई सवाल है या आप कोई जानकारी शामिल करवाना चाहते हैं तो आप नीचे कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

0 / 5. Vote count: 0

No votes so far! Be the first to rate this post.

We are sorry that this post was not useful for you!

Let us improve this post!

Tell us how we can improve this post?

Sarkari Eye
हम Sarkarieye.com वेबसाइट पर आपको सरकारी योजना, Career Tips, ऐतिहासिक स्मारकों, घूमने की जगहों की जानकारी, इंटरनेट से संबंधित जानकारियां और लेटेस्ट जॉब अप्डेट्स के बारे में शेयर करते हैं।