Startup India Kya Hai?

StartUp India kya hai?




StartUp India kya hai?, Startup India Scheme भारत सरकार द्वारा employment generation और wealth creation के लिए एक पहल है।


Startup India Scheme का लक्ष्य उत्पादों और सेवाओं का विकास और innovation और भारत में रोजगार दर में वृद्धि करना है।

स्टार्टअप इंडिया Scheme के लाभ कार्य का simplification, finance support, government tenders, networking के opportunities हैं।


स्टार्टअप इंडिया का शुभारंभ प्रधान Shri. Narendra Modi द्वारा 16 जनवरी 2016 को किया गया था। आइए स्टार्टअप इंडिया क्या हैं और स्टार्टअप इंडिया के लाभों और eligibility के बारे में अधिक जानें।

Contents

StartUp India kya hai?

StartUp India kya hai?

स्टार्टअप” की परिभाषा: कोई भी कंपनी जो निम्न श्रेणी की सूची में आती है, उसे “स्टार्टअप” कहा जाएगा और भारत सरकार से लाभ प्राप्त करने के लिए DPIIT द्वारा मान्यता प्राप्त होने की पात्र होगी।


भारत में स्टार्टअप बहुत लोकप्रिय हो रहे हैं। भारतीय अर्थव्यवस्था को विकसित करने और प्रतिभाशाली उद्यमियों को आकर्षित करने के लिए।

भारत सरकार ने, पीएम नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में, स्टार्टअप्स को पहचानने और बढ़ावा देने के लिए स्टार्टअप इंडिया पहल को शुरू और बढ़ावा दिया है।

कंपनी की Age: निगमन की तिथि 10 वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए।

कंपनी का प्रकार: एक प्राइवेट लिमिटेड कंपनी या एक Registered Partnership Firm या एक limited liability Partnership के रूप में निगमित होना चाहिए था।

वार्षिक कारोबार: इसके निगमन के बाद से किसी भी वित्तीय वर्ष के लिए 100 करोड़ रुपये से अधिक नहीं होना चाहिए।

मूल इकाई (Original Entity): कंपनी या इकाई को मूल रूप से प्रमोटरों द्वारा गठित किया जाना चाहिए था और मौजूदा व्यवसाय को विभाजित या पुनर्निर्माण करके नहीं बनाया जाना चाहिए था।

Innovative और Scalable: किसी उत्पाद, प्रक्रिया या सेवा के विकास या सुधार की योजना होनी चाहिए और/या धन और रोजगार के सृजन के लिए उच्च क्षमता वाला एक स्केलेबल बिजनेस मॉडल होना चाहिए।

Startup India Scheme की Action Plan

Start up India की action plan निम्नलिखित factors पर आधारित है:

1. कार्य का Simplification

यह पहल नए प्रवेशकों को प्रेरित करने के लिए काम को सरल बनाती है। इसमें सरकार द्वारा उठाए गए निम्नलिखित steps शामिल हैं:

  • सबसे पहले, सरकार ने startup india hub की स्थापना की है, जहां incorporation, registration, grievance handling आदि से संबंधित सभी कार्य किए जाते हैं।
  • दूसरे, कहीं से भी और कभी भी registration की सुविधा के लिए सरकार द्वारा एक आवेदन और एक ऑनलाइन पोर्टल स्थापित किया गया है।
  • तीसरा, स्टार्टअप के लिए patent acquisition और registration अब fast हो गया है।
  • अंत में, Insolvency और Bankruptcy Bill, 2015 के अनुसार स्टार्टअप्स के तेजी से समापन की सुविधा प्रदान करता है। एक नया स्टार्टअप निगमन के 90 दिनों के भीतर खुद को बंद कर सकता है।

2. Financial Support

Startups को प्रेरित करने के लिए, सरकार विभिन्न वित्तीय सहायता प्रदान करती है। सरकार द्वारा उठाए गए ये कदम इस प्रकार हैं:

  • सरकार ने ४ वर्षों के लिए १०,००० करोड़ रुपये (प्रत्येक वर्ष २५०० करोड़ रुपये) का एक कोष स्थापित किया है।  ऐसे फंड से सरकार विभिन्न startups में invest करती है।
  • विशेष funds प्रदान की जाती है, निवेश जिसमें कैपिटल लाभ पर आयकर से छूट मिलती है।
  • स्टार्टअप के लिए निगमन के बाद पहले 3 वर्षों के लिए आयकर छूट उपलब्ध है।
  • Income Tax Act के तहत, जहां एक startup (कंपनी) शेयरों के उचित बाजार मूल्य से अधिक शेयरों को जारी करने के लिए कोई प्रतिफल प्राप्त करता है, ऐसे अतिरिक्त प्रतिफल पर recipient के हाथों अन्य स्रोतों से आय के रूप में कर लगता है।
  • स्टार्टअप्स में वेंचर कैपिटल फंड्स द्वारा निवेश को इस प्रावधान के लागू होने से छूट दी गई है। यही बात स्टार्टअप्स में इन्क्यूबेटरों द्वारा किए गए निवेश पर भी लागू होती है।

स्टार्टअप इंडिया के Benefits

  • Financial Benefits
  • Income Tax Benefits
  • Registration Benefits
  • Government Tenders
  • Huge Networking Opportunities

 1. Financial Benefits

अधिकांश स्टार्टअप पेटेंट आधारित हैं। इसका मतलब है कि वे अद्वितीय वस्तुओं या सेवाओं का उत्पादन या प्रदान करते हैं।


अपने पेटेंट को रजिस्ट्रेशन करने के लिए, उन्हें एक भारी लागत वहन करनी पड़ती है जिसे पेटेंट लागत के रूप में जाना जाता है।


इस योजना के तहत, सरकार पेटेंट लागत पर 80% छूट प्रदान करती है। इसके अलावा, पेटेंट रजिस्ट्रेशन और संबंधित की प्रक्रिया उनके लिए तेज है।


साथ ही, सरकार पेटेंट प्राप्त करने के लिए सुविधाकर्ता की फीस का भुगतान करती है।

2. Income Tax Benefits

स्टार्टअप्स को इनकम टैक्स हेड के तहत अच्छी मात्रा में लाभ मिलता है। सरकार निगमन वर्ष के बाद उनके 3 साल के आयकर में छूट देती है।


लेकिन वे इसका लाभ Inter-Ministerial Board से सर्टिफिकेट मिलने के बाद ही उठा सकते हैं।

इसके साथ ही, वे कैपिटल गेन पर टैक्स से छूट का दावा कर सकते हैं यदि वे निर्दिष्ट फंड में पैसा लगाते हैं।

3. Registration Benefits

सभी का मानना है कि व्यवसाय का निगमन और पंजीकरण उसे चलाने से कहीं अधिक कठिन है। यह registration के लंबे और जटिल steps के कारण है।


Startup India Yojana के तहत registration की सुविधा के लिए एक आवेदन है। स्टार्ट-अप इंडिया हब में एक बैठक की व्यवस्था की गई है। साथ ही, उनके लिए एक ही संदेह और problem-solving window है।

4. Government Tenders

हर कोई high payments और बड़ी परियोजनाओं के कारण सरकारी निविदाएं प्राप्त करना चाहता है। लेकिन सरकारी टेंडर हासिल करना आसान नहीं है।


इस योजना के तहत स्टार्टअप को सरकारी निविदाएं प्राप्त करने में प्राथमिकता मिलती है। साथ ही, उन्हें किसी पूर्व अनुभव की आवश्यकता नहीं है।

5. Huge Networking Opportunities

नेटवर्किंग के अवसरों का अर्थ है एक विशेष स्थान और समय पर विभिन्न स्टार्टअप stakeholders से मिलने का अवसर।

सरकार सालाना 2 स्टार्टअप फेस्ट (घरेलू और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर) आयोजित करके यह अवसर प्रदान करती है।
स्टार्टअप इंडिया योजना बौद्धिक संपदा जागरूकता कार्यशाला और जागरूकता भी प्रदान करती है।


स्टार्टअप का रजिस्ट्रेशन केवल निम्न प्रकार की कंपनियों से ही किया जा सकता है:

  • Partnership Firm
  • Limited Liability Partnership Firm
  • Private Limited Company

Startup India योजना के तहत पंजीकरण के लिए पात्रता

Eligibility for Registration under Startup India Scheme:

  1. सबसे पहले, बनने वाली कंपनी एक प्राइवेट लिमिटेड कंपनी या एक limited liability partnership firm होनी चाहिए।
  2. दूसरे, फर्मों को औद्योगिक नीति और संवर्धन विभाग से अनुमोदन प्राप्त करना चाहिए था।
  3. तीसरा, इसमें इन्क्यूबेशन द्वारा एक सिफारिश पत्र होना चाहिए।
  4. फर्म को नवीन योजनाएं या उत्पाद उपलब्ध कराने चाहिए।
  5. यह एक नई फर्म होनी चाहिए या पांच साल से अधिक पुरानी नहीं होनी चाहिए।
  6. कंपनी का कुल कारोबार 25 करोड़ से अधिक नहीं होना चाहिए।
  7. अंत में, यह पहले से मौजूद किसी व्यवसाय के विभाजन, या पुनर्निर्माण का परिणाम नहीं होना चाहिए।

Conclusion

विभिन्न सरकारी पहलों की बदौलत स्टार्टअप के रूप में register करना बहुत आसान है। हालाँकि, आप अपनी कंपनी को शामिल करने से लेकर अपनी स्टार्टअप मान्यता प्राप्त करने तक अपने प्रमुख क्षेत्र पर शुरू से अंत तक ध्यान केंद्रित कर सकते हैं।


हमने Startup India kya hai? से संबंधित सभी महत्वपूर्ण बातों के बारे में बात की।  यदि आपके कोई प्रश्न हैं, तो comment करने में संकोच न करें।

Frequently Asked Questions (FAQ) –

Q. स्टार्टअप इंडिया के लिए कौन Registration कर सकता है?

Ans: प्राइवेट लिमिटेड कंपनी, Partnership firm या Limited liability partnership के रूप में निगमित कोई संस्था स्टार्टअप इंडिया योजना के तहत अपना registration करा सकती है।

इन व्यावसायिक संस्थाओं का वार्षिक कारोबार 100 करोड़ से अधिक नहीं होना चाहिए, और वे इसके registration की तारीख से दस साल तक अस्तित्व में रहे होंगे। ऐसी संस्था को उत्पादों या सेवाओं या प्रक्रियाओं के नवाचार, विकास या सुधार की दिशा में काम करना चाहिए।

Q. स्टार्टअप इंडिया के साथ Sign-up करने के क्या फायदे हैं?

Ans: Startup India Yojana से स्टार्टअप को कई लाभ मिलते हैं।  फिर भी, इन लाभों का लाभ उठाने के लिए, डीपीआईआईटी द्वारा स्टार्टअप के रूप में एक इकाई स्थापित करने की आवश्यकता है।

स्टार्टअप्स को six labour laws और तीन पर्यावरण कानूनों के अनुपालन को स्वयं प्रमाणित करने की अनुमति है। यह इकाई के incorporation/registration की तारीख से कुल पांच वर्षों की अवधि के लिए अनुमत है।

स्टार्टअप्स को तीन साल की कर छूट और सर्वोत्तम बौद्धिक संपदा सेवाओं और संसाधनों की अनुमति है जो केवल स्टार्टअप्स को उनके IPR की रक्षा और व्यावसायीकरण में मदद करने के लिए बनाए गए हैं।

Q. मुझे अपने स्टार्टअप के लिए किस प्रकार का बिजनेस Structure चुनना चाहिए?

Ans: स्टार्टअप के लिए सबसे पसंदीदा व्यावसायिक संरचनाएं प्राइवेट लिमिटेड कंपनियां और LLP हैं।

एक प्राइवेट लिमिटेड कंपनी कानूनी रूप से मान्यता प्राप्त है और आम तौर पर निवेशकों द्वारा पसंद की जाती है। हालाँकि, इसका सख्त अनुपालन है और इसमें निगमन की उच्च लागत हो सकती है।

जबकि LLP के लिए incorporation लागत कम है और वे प्राइवेट की तुलना में अनुपालन में ढील देते हैं। लिमिटेड कंपनी इसके अलावा, एलएलपी की सीमित देनदारियां हैं और निवेशकों और पूरी दुनिया में समान रूप से मान्यता प्राप्त हैं।

Q. Investors को स्टार्ट-अप की ओर आकर्षित करने के लिए मैं क्या कर सकता हूं?

Ans: निवेशकों को आकर्षित करने के लिए, आपको न केवल एक स्केलेबल मॉडल के साथ एक तारकीय उत्पाद की आवश्यकता है, बल्कि आपको दृश्यता की भी आवश्यकता है।

सुनिश्चित करें कि आपके उत्पाद को स्वस्थ जुड़ाव और कर्षण प्राप्त हो। आपको स्टार्टअप इंडिया पर अपना स्टार्टअप registration करना होगा और निवेशकों की तलाश करनी होगी।

यह भी सुनिश्चित करें कि आप अपने व्यावसायिक विचार को निवेशक और अपने व्यवसाय मॉडल की स्थिरता को प्रभावी ढंग से संप्रेषित करने में सक्षम हैं।

Q. क्या कोई विदेशी कंपनी स्टार्टअप इंडिया हब के तहत Registration करा सकती है?

Ans: कोई भी इकाई जिसका भारत में कम से कम एक registered कार्यालय है, हब पर अपना registration करा सकती है, क्योंकि स्थान वरीयताएँ, फिलहाल, केवल भारतीय राज्यों के लिए बनाई गई हैं।

हालांकि, जल्द ही सरकार को global ecosystem तंत्र से भी stakeholders के लिए registration शुरू करने की उम्मीद है।

Q. किसी कंपनी को स्टार्टअप के रूप में कब तक मान्यता दी जाती है?

Ans: कोई भी व्यवसायिक संस्था जिसने अपने incorporation/registration की तारीख से 10 वर्ष पूरे कर लिए हैं, और पिछले वर्षों के टर्नओवर 100 करोड़ से अधिक हो गए हैं।

उसके incorporation/registration की तारीख से 10 वर्ष पूरे होने पर स्टार्टअप बनना बंद हो जाएगा।

Q. क्या कोई मौजूदा संस्था स्टार्टअप इंडिया पोर्टल पर खुद को “स्टार्टअप” के रूप में रजिस्ट्रेशन करा सकती है?

Ans: हां, कानून के अनुसार एक मौजूदा संस्था खुद को स्टार्टअप के रूप में पंजीकृत कर सकती है, बशर्ते कि वह स्टार्टअप के लिए निर्धारित मानदंडों को पूरा करती हो। वे स्टार्टअप के लिए उपलब्ध विभिन्न कर और IPR लाभों का भी लाभ उठा सकेंगे।

Q. मुझे कैसे पता चलेगा कि मेरा रजिस्ट्रेशन पूरा हो गया है?

Ans: एक बार जब आवेदन पूरा हो जाता है, और स्टार्टअप को मान्यता मिल जाती है, तो आपको सिस्टम से उत्पन्न मान्यता का प्रमाण पत्र प्राप्त होगा। आप इस प्रमाणपत्र को स्टार्टअप इंडिया पोर्टल से डाउनलोड कर सकेंगे।

Sarkari Eye
हम Sarkarieye.com वेबसाइट पर आपको सरकारी योजना, गवर्नमेंट स्कीम्स, ऐतिहासिक स्मारकों, घूमने की जगहों की जानकारी, इंटरनेट से संबंधित जानकारियां और लेटेस्ट जॉब अप्डेट्स के बारे में शेयर करते हैं।