Stock Market क्या है? स्टॉक मार्केट कैसे काम करता है?

Stock Market क्या है? स्टॉक मार्केट कैसे काम करता है?

Table of Contents

स्टॉक मार्केट क्या है? स्टॉक मार्केट कैसे काम करता है?

Stock Market क्या है? स्टॉक मार्केट कैसे काम करता है? शेयर बाजार या स्टॉक मार्केट के बारे में आपने पिछले कुछ समय में बहुत बार सुना होगा। आपने कई मूवी और वेब सीरीज भी देखी होगी। लेकिन क्या आप सही में जानते है की स्टॉक मार्केट क्या है? यह कैसे काम करता है और आप कैसे स्टॉक मार्केट से पैसे कमा सकते हैं?

यदि नही जानते है तो आज आप सही जगह पर आए है। आज के इस आर्टिकल में मैने स्टॉक मार्केट से जुड़ी सारी जानकारी देने की कोशिश की है।

दोस्तो हमारे यहां इन्वेस्टमेंट के कई सारे अलग अलग तरीके है लेकिन कुछ मूवी, वेब सीरीज और कोविड के बाद काफी सारे लोग स्टॉक मार्केट की तरफ बढ़े हैं, स्टॉक मार्केट में इन्वेस्ट करना चाहते हैं। लेकिन कुछ ऐसे स्कैम और सही जानकारी नहीं होने की वजह से लोग स्टॉक मार्केट में पैसे इन्वेस्ट करने से डरते है।

इसी वजह से आज के इस आर्टिकल में मैने स्टॉक मार्केट से लेकर और उससे जुड़े सारे सवालों के जवाब आपको इस आर्टिकल में मिलेगे। जिसमे आप जानेंगे की स्टॉक मार्केट क्या हैं?, स्टॉक मार्केट कैसे काम करता है?, स्टॉक एक्सचेंज क्या है काम कैसे करता है? इत्यादि जैसी जानकारी दी है।

इन्हे भी पढे:

तो आइए जानते हैं स्टॉक मार्केट से जुड़ी जानकारी हिंदी में…

Stock Market क्या है? [What is Stock Market in Hindi]

Stock Market क्या है? स्टॉक मार्केट कैसे काम करता है?

स्टॉक मार्केट जिसे हम दूसरे शब्दों में शेयर मार्केट के नाम से भी जानते है। स्टॉक मार्केट एक ऐसा बाजार है जहां पर अलग-अलग कंपनियों के शेयर खरीदे और बेचे जाते हैं।

स्टॉक मार्केट में सिर्फ शेयर ही नहीं बल्कि बॉन्ड, म्यूच्यूअल फंड, डेरिवेटिव कांट्रैक्ट और अलग अलग प्रकार की सिक्योरिटी को स्टॉक एक्सचेंज के माध्यम से भी मार्केट में खरीदे और बेचे जाते हैं।

स्टॉक मार्केट को हम दो अलग अलग प्रकार के मार्केट में विभाजित कर सकते हैं, प्राइमरी स्टॉक मार्केट और सेकेंडरी स्टॉक मार्केट।

प्राइमरी स्टॉक मार्केट: इसमें प्राइमरी मार्केट का अर्थ होता है जब भी कोई कंपनी फंड लेने के लिए अपने शेयर यानी की स्टॉक को मार्केट में सेल करने के लिए लिस्टेड होती है। जिसे हम दूसरे शब्दों में इनिशियल पब्लिक ऑफरिंग यानी कि आईपीओ के नाम से जानते है। आईपीओ लॉन्च करने के बाद कंपनी पब्लिक हो जाती है और स्टॉक मार्केट में पब्लिक में ट्रेड करती है।

सेकेंडरी स्टॉक मार्केट: दूसरा है सेकेंडरी मार्केट जिसमें वह कंपनी शामिल होती है जो पहले से मार्केट में लिस्टेड है जिसके शेयर को आप ट्रेड कर सकते हैं। सेकेंडरी मार्केट में इन्वेस्ट करंट प्राइस में शेयर को खरीद सकते हैं। इसके अलावा यदि इन्वेस्टर चाहे तो अपनी इच्छा अनुसार शहर को बेच सकते और मार्केट से बाहर भी निकल सकते है।

यहां तक अपने जाना शेयर मार्केट के बारे में बेसिक जानकारी। आज के समय में बहुत से लोग शेयर मार्केट में पैसे इन्वेस्ट कर रहे कुछ लोग हैं जो शेयर मार्केट से अच्छे पैसे कमाते दिए और कुछ है जो शेयर मार्केट में पैसे गवाही देते हैं।

शेयर मार्केट में जिस कंपनी में आप जितने शेयर खरीदते हैं यानी कि कंपनी में जितने पैसे इन्वेस्ट करते हैं आप उस कंपनी के अपने इन्वेस्टमेंट के आधार पर उस कंपनी के हिस्सेदार बन जाते हैं।

आपने इन्वेस्ट की हुई कंपनी यदि अच्छा परफॉर्मेंस देती है और कंपनी को मुनाफा होता है तो आपके इन्वेस्टमेंट का रिटर्न भी अच्छा मिलता है जय कंपनी का परफॉर्मेंस अच्छा नहीं होता है नुकसान होता है तो आपका इन्वेस्टमेंट का नुकसान भी हो सकता है।

स्टॉक मार्केट कैसे काम करता है?

आज भी हमारे देश में कई लोग ऐसे हैं जो स्टॉक मार्केट को एक जुआ समझते हैं। स्टॉक मार्केट में पैसे इन्वेस्ट करने से डरते है क्योंकि इन्हें स्टॉक मार्केट के बारे में सही जानकारी नहीं है। स्टॉक मार्केट के बारे में जानकारी जानने के बाद आइए आप जानते हैं कि स्टॉक मार्केट काम कैसे करता है।

कंपनी मार्केट में लिस्ट हो जाने के बाद इन्वेस्टर कम्पनी के स्टॉक को सेकेंडरी मार्केट में ट्रेड कर सकते है। ज्यादातर ट्रेडिंग यही पर होती है। मार्केट में खरीददार और सेलर दोनो शेयर की ट्रांजेक्शन करते है।

यहां पर buyer और seller के बीच में ब्रोकर होता है। जो दोनो में बीच में intermediaries होता है। ब्रोकर हरेक ऑर्डर को एक्सचेंज के पास भेजता है। बाद में एक्सचेंज सेलर को find करता है और confirmation के बाद वापस ब्रोकर को भेजता है और ब्रोकर आपके अकाउंट में से डेबिट और क्रेडिट करता है।

ऐसे ही स्टॉक मार्केट में काम होता है। इस प्रकार से मार्केट में हर दिन कई ट्रेड होते है और ट्रेड कन्फर्म और पूरा होने के बाद शेयर की कीमत में बदलाव भी आता है। ऐसा क्यों?

क्योंकि शेयर की कीमत डिमांड और सप्लाई पर काम करता है। जब जब किसी कम्पनी के शेयर की डिमांड बढ़ती है यानी की buyer बढ़ते है तो शेयर की कीमत बढ़ने लगती है। जब किसी कम्पनी के शेयर की डिमांड कम होती है, लोग शेयर को बेचने लगते है तो शेयर की कीमत भी कम होने लगती है।

नीचे मैने इसको आसान से स्टेप में जानकारी बताई है:

स्टेप 1: किसी यूजर ने ऑर्डर दिया।

स्टेप 2: ऑर्डर की डिटेल ब्रोकर स्टॉक एक्सचेंज को देता है।

स्टेप 3: एक्सचेंज सेलर को कन्फर्म करने को देखता है।

स्टेप 4: बाद में एक्सचेंज ब्रोकर को ऑर्डर को कन्फर्म करता है।

स्टेप 5: आखिर में ट्रेडिंग होती है।

तो दोस्तो उपर बताए गए बेसिक स्टेप के आधार पर ही स्टॉक मार्केट काम करता है। जब कोई नया यूजर स्टॉक मार्केट में आता है तो शुरुआत में इसे स्टॉक मार्केट बहुत ज्यादा कॉन्प्लिकेटेड लगता है।

लेकिन स्टॉक मार्केट क्या है? और स्टॉक मार्केट कैसे काम करता है? के बारे में जानने के बाद उनके लिए स्टॉक मार्केट काफी आसान हो जाता है।

स्टॉक मार्केट कैसे काम करता है यह जानने के बाद भी अभी काम पूरा नहीं हुआ है। अभी आगे जानते हैं कि स्टॉक या शेयर होता क्या है और उससे जुड़ी जानकारी…

स्टॉक क्या होता है? [What is Stock in Hindi]

उस तो जब भी आप किसी कंपनी के स्टॉक / शेयर को स्टॉक मार्केट से खरीदते हैं, कंपनी में पैसे इन्वेस्ट करते हैं तो आप उस कंपनी में अपने इन्वेस्टमेंट के आधार पर कुछ प्रतिशत का हिस्सेदार बन जाते हैं। कम्पनी के कमाई और assets के भी भागीदार बनते है।

स्टॉक के दो प्रकार होते ही: कॉमन स्टॉक (Common Stock) और प्रिफर्ड स्टॉक (Preferred Stock)

Common Stock: जब आप किसी कंपनी के कॉमन स्टॉक के मालिक होते हैं तो आपको शेयर होल्डर की मीटिंग में वोट देने की ओर डिविडेंड प्राप्त करने का अधिकार भी मिलता है।

Preferred Stock: प्रिफर्ड स्टॉक में आपको शेयर होल्डर की मीटिंग में वोट देने का अधिकार नहीं मिलता है लेकिन आपको कॉमन स्टॉक के मुकाबले assets और कमाई ज्यादा कर सकते हैं यानी की higher claim कर सकते हैं।

इन्हे भी पढे:

स्टॉक को दूसरे शब्दों में “शेयर” और “इक्विटी” के नाम से भी जाना जाता है।

स्टॉक एक्सचेंज क्या है?

स्टॉक एक्सचेंज एक बाजार की तरह काम करता है। जिसमे स्टॉक, बॉन्ड, म्यूच्यूअल फंड, डेरिवेटिव कांट्रैक्ट, कमोडिटी इत्यादि वित्तीय सर्विस का व्यापार होता है।

स्टॉक एक्सचेंज SEBI के नियमो का पालन करता है और कम्पनी, BUYER और SELLER के बीच में व्यापार करता है। स्टॉक एक्सचेंज में अलग अलग कम्पनी लिस्ट होती है और उसके बाद ही अपने स्टॉक को मार्केट में सेल कर सकती है।

भारत में दो स्टॉक एक्सचेंज मौजूद है:

Stock Market क्या है? स्टॉक मार्केट कैसे काम करता है?

(1). BSE (बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज)

(2). NSE (नेशनल स्टॉक एक्सचेंज)

BSE (बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज) के बारे में जानकारी:

BSE जिसे हम बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज के नाम से जाना जाता है, जो एशिया का सबसे पहला स्टॉक एक्सचेंज है। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज में आप 6 माइक्रो सेकंड की स्पीड से ट्रेडिंग कर सकते हैं और इसी वजह से यह दुनिया का सबसे फास्टेस्ट स्टॉक एक्सचेंज है।

बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज की स्थापना 19वी सदी में प्रेमचंद रायचंद ने की थी। पहले के समय में, यह बरगद के पेड़ के नीचे दलाल स्ट्रीट में काम करता था – जहां व्यापारी स्टॉक खरीदने और बेचने के लिए इकट्ठा होते थे। धीरे-धीरे इस नेटवर्क का विस्तार हुआ और 1875 में बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज के नाम से एक्सचेंज की स्थापना हुई।

NSE (नेशनल स्टॉक एक्सचेंज) के बारे में जानकारी:

NSE या नेशनल स्टॉक एक्सचेंज भारत का प्रमुख स्टॉक एक्सचेंज है। यह दुनिया में चौथा सबसे बड़ा इक्विटी ट्रेडिंग वॉल्यूम के आधार पर है। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज 1992 में स्थापित हुआ था।

इन्हे भी पढे:

एनएसई को शुरू में Indian Market System में ट्रांसपेरेंसी लाने के उद्देश्य से स्थापित किया गया था। सरकार की मदद से, एनएसई सफलतापूर्वक ट्रेडिंग और इक्विटी में डोमेस्टिक और अंतरराष्ट्रीय इन्वेस्टर को शामिल करने जैसी सर्विस प्रदान करता है।

NSE और BSE कैसे काम करता है?

एनएसई और बीएसई दोनों का ट्रेडिंग मैकेनिज्म समान है। इन्वेस्टर और ट्रेडर अपने ब्रोकर के माध्यम से एक्सचेंजों से जुड़ते हैं, और इन एक्सचेंजों पर ऑर्डर खरीदते या बेचते हैं। आपने अक्सर ‘निफ्टी‘ और ‘सेंसेक्स‘ शब्द सुने होंगे।

ये दोनों सूचकांक हैं – जिसमे “निफ्टी” एनएसई का इंडेक्स है और दूसरा “सेंसेक्स” बीएसई का इंडेक्स है। ये इंडेक्स इन एक्सचेंजों के कामकाज में एक इंपॉर्टेंट भूमिका निभाते हैं।

  • सूचकांक इन एक्सचेंजों पर शेयरों के परफॉमेंस का एक सिग्नल देता हैं।
  • एनएसई में 50 कंपनी का बीएसई में 30 कंपनी का एक सेट होता है। जिसमे कंपनी की रेप्यूटेशन, मार्केट कैपिटलाइजेशन के आधार पर सूचकांक का ‘मूल्य’ देता है।
  • अगर इनमें से किसी भी शेयर की कीमत बढ़ती है, तो निफ्टी और सेंसेक्स का मूल्य बढ़ जाता है। अगर कीमतों में गिरावट आती है, तो निफ्टी और सेंसेक्स में भी गिरावट आई है।

यह सब ठीक है और अच्छा है, लेकिन इन स्टॉक एक्सचेंजों की वास्तविक भूमिका क्या है? वो क्या करते हैं?

  • मान लीजिए कि कोई कंपनी इन्वेस्टर से पैसा जुटाना चाहती है, तो उसे पहले स्टॉक एक्सचेंज में रजिस्टर होना होगा, उसके बाद वह आईपीओ के साथ लॉन्च करता है।
  • कंपनी शेयरों का उत्पादन करती है और उन्हें एक विशेष कीमत पर बेचती है। शेयर खरीदने वाले इन्वेस्टर कंपनी के शेयरधारक होते हैं।
  • प्रत्येक शेयर के लिए, इन्वेस्टर को प्रॉफिट की एक फिक्स्ड रकम का भुगतान किया जाता है। यदि कंपनी बढ़ती है, तो प्रॉफिट बढ़ता है और इसके विपरीत होता है तो नुकसान भी होता है।
  • ये सभी लेनदेन एनएसई और बीएसई जैसे स्टॉक एक्सचेंज के रूप में जाने वाले एक regulating authority के तहत किए जाते हैं। कंपनियां इन एक्सचेंजों में अपने शेयर लिस्ट करती हैं और इन्वेस्टर उन्हें खरीदते हैं।

स्टॉक मार्केट में पैसे कैसे लगाए?

Stock Market क्या है? स्टॉक मार्केट कैसे काम करता है?

स्टॉक मार्केट और स्टॉक एक्सचेंज के बारे में जानकारी जानने के बाद आइए अब जानते है की स्टॉक मार्केट में पैसे कैसे लगाए?
स्टॉक मार्केट में पैसे लगाने के लिए आपको डीमैट अकाउंट और ट्रेडिंग अकाउंट की जरूरत होती है। इसके लिए आपके पास पैनकार्ड, एड्रेस प्रूफ और बैंक अकाउंट होना जरूरी है।

  • डीमैट अकाउंट खुलवाने के लिए एक तरीका है, आप ब्रोकर के पास जाकर के डीमैट अकाउंट खोल सकते है।
  • डीमैट अकाउंट खोलने का दूसरा तरीका है की आप किसी भी bank में जाकर अपना demat account खोल सकते हैं।
  • इसके अलावा आज के समय में आप घर बैठे भी ऑनलाइन अकाउंट खोल सकते है। डीमैट अकाउंट आप ऑनलाइन Zerodha, Upstox, Groww App जैसे ऐप की मदद से भी अकाउंट खोल सकते हैं।

स्टॉक मार्केट में इन्वेस्टमेंट टिप्स

Stock Market क्या है? स्टॉक मार्केट कैसे काम करता है?

दोस्तो covid 19 के बाद देश के काफी सारे युवा स्टॉक मार्केट में इन्वेस्ट करने की सोच रहे है और काफी पॉपुलर भी हो रहा है, लेकिन स्टॉक मार्केट में बिना सोचे समझे इन्वेस्टमेंट करना सही तरीका नही है।

नीचे मैने कुछ टिप्स दी है, जिसे आप स्टॉक मार्केट में इन्वेस्ट करने के लिए फॉलो कर सकते हैं:

स्टॉक मार्केट को समझे

यदि आप भी स्टॉक मार्केट में इन्वेस्ट करने की सोच रहे हैं तो सबसे पहले आपको स्टॉक मार्केट को समझना होगा, जिसमें आपको यह जानना होगा कि ट्रेडिंग क्या है, कौन सा स्टॉक्स आपके लिए अच्छा परफॉर्मेंस दे सकता है।

किसी भी कंपनी का फाइनेंसियल स्टेटमेंट और कंपनी के बारे में जानना भी जरूरी है, आप जिस ब्रोकरेज के वहां पर अकाउंट बनाते हैं उनका चार्जेस क्या है इत्यादि जैसी बहुत सारी चीजे है जिनके बारे में जानकारी प्राप्त करना जरूरी है। इसके बाद ही आपको स्टॉक मार्केट में इन्वेस्ट करना चाहिए।

इन्वेस्टमेंट लक्ष्य बनाए

स्टॉक मार्केट में इन्वेस्ट कर रहें है तो आपके पास एक इन्वेस्टमेंट लक्ष्य होना जरूरी है जैसे की आप जो इन्वेस्टमेंट कर रहे वो किसके लिए कर रहे है: अपने बच्चे के शादी के लिए या आप अपने पैसे को grow करना चाहते हैं।

अपना इन्वेस्टमेंट लक्ष्य बनाने के बाद आपको अपने इन्वेस्टमेंट लक्ष्य के हिसाब से कितने समय के लिए इन्वेस्ट करना है यह choose करना होगा जैसे की आप short term के लिए चाहते है या medium term या long term के लिए इन्वेस्ट करना चाहते हैं।

ट्रेडिंग करे या इन्वेस्टमेंट

जब भी कोई नया इन्वेस्टर्स स्टॉक मार्केट में एंट्री लेता है तो सबसे पहले यही सवाल आता है कि हमें ट्रेडिंग करना चाहिए या इन्वेस्टमेंट?  ट्रेडिंग करते हैं तो आपको उसके लिए रेगुलर समय देना होगा और उसमें आपकी एक्सपर्टाइज्ड होनी जरूरी है।

यदि आपको स्टॉक मार्केट का अच्छा अनुभव है तो आप ट्रेडिंग कर सकते हैं। तो दूसरा तरीका है कि आप एक इन्वेस्टर के तौर पर शुरुआत कीजिए। जैसे जैसे ही आपको मार्केट के बारे में अनुभव होगा मार्केट को समझने लगेंगे, उसके बाद ही आप ट्रेडिंग करना शुरुआत कर सकते हैं।

स्टॉक या म्यूच्यूअल फंड

यदि आप स्टॉक मार्केट में नए है और स्टॉक मार्केट में सही जानकारी नहीं है तो आपके लिए म्यूचुअल फंड एक सबसे बेहतरीन तरीका है। जब आप म्यूचुअल फंड में अपने पैसे इन्वेस्ट करते हैं तो उसमें आपके स्पेशलिस्ट फंड मैनेजर होते हैं।

और यह फंड मैनेजर आपके पैसे को सही जगह पर इन्वेस्टमेंट करते हैं और आपके रिस्क को कम करते है और रिटर्न को ज्यादा देते हैं। यदि आपको स्टॉक मार्केट समझने करने में परेशानी है, उसकी बैलेंस शीट समझने में परेशानी आ रही है तो आप म्यूच्यूअल फंड के साथ शुरुआत कर सकते हैं।

शुरुआत में Established Company के स्टॉक के साथ ही शुरुआत करे:

स्टॉक मार्केट में शुरुआत में आपको ऐसी कंपनी पसंद करनी चाहिए जो पहले से मार्केट में अच्छे से Established है। मार्केट में ऐसी कंपनी रिसर्च करे और देखे की पिछले कुछ समय में उन्होंने कैसा परफॉमेंस दिया है।

जब आप Established Company, Reputed Company के साथ शुरुआत करते है तो आनेवाले समय में आपके पैसे खोने का रिस्क कम हो जाता है और अच्छे रिटर्न के मौके भी बढ़ते है।

खुद से मार्केट एनालिसिस करना शुरुआत कीजिए

स्टॉक मार्केट में हर समय एक्सपर्ट की सलाह पर इन्वेस्टमेंट करना भी आपके लिए रिस्की बन सकता है। ऐसे में आपको खुद से हर दिन मार्केट रिसर्च / मार्केट एनालिसिस करना शुरुआत कीजिए।

जब आप हर दिन मार्केट के हल चल को एनालिसिस करेगे तो यह आपको निर्णय लेने में मदद करेगा और आपके रिस्क को कम करने में आपकी मदद करेगा।

मार्केट में कभी कभी Emotionally Decision मत लीजिए:

सबसे जरूरी टिप्स यही है की स्टॉक मार्केट में कभी आपको लालची नही होना चाहिए, आपको कभी कभी Emotional होकर Decision नही लेना चाहिए।

अच्छे सेक्टर में इन्वेस्ट करे

अच्छे सेक्टर का मतलब है की आगे आनेवाले समय में कौन कौन से ऐसे सेक्टर है या फील्ड है जिसका फ्यूचर है, उपयोग बढ़ने वाला है। ऐसे सेक्टर को रिसर्च करके आपको उसमे इन्वेस्ट करना चाहिए। जैसे की कॉविड से पहले फार्मा सेक्टर इतना grow नही हुआ था।

Also Read:

लेकिन covid के टाइम बाकी सभी सेक्टर में गिरावट आई थी लेकिन फार्मा सेक्टर ने अच्छा परफॉर्मेंस दिया था। ऐसे ही आप आगे आने वाले फील्ड, सेक्टर और कंपनी के बारे में रिसर्च कर सकते है और अपना इन्वेस्टमेंट स्ट्रेटजी बना सकते हैं।

अपने पोर्टफोलियो को Diversified कीजिए

जब भी आप इन्वेस्टमेंट करे तो अपने पोर्टफोलियो को Diversified करके इन्वेस्टमेंट कीजिए। जब आप अलग अलग सेक्टर में इन्वेस्टमेंट करते है तो आप अपना risk कम कर लेते है। क्योंकि एक सेक्टर सभी समय अच्छा परफॉमेंस दे ऐसा पॉसिबल नही है।

यदि आपने किसी एक सेक्टर में ही सभी इन्वेस्टमेंट किया है और उसने अच्छा परफॉमेंस नही दिया तो आपका नुकसान भी हो सकता है और वही पर आपने अलग अलग सेक्टर में इन्वेस्ट किया होता है तो ऐसे में आपका एक सेक्टर अच्छा परफॉमेंस नही देता है तो दूसरा सेक्टर अच्छा परफॉमेंस दे रहा है तो आपका loss कम हो सकता है।

Final Conclusion-

दोस्तो आज के इस आर्टिकल में आपने जाना की स्टॉक मार्केट क्या है? स्टॉक मार्केट कैसे काम करता है?, स्टॉक मार्केट में कैसे आप इन्वेस्ट कर सकते है और इसके अलावा स्टॉक मार्केट से जुड़ी और भी जानकारी हिंदी में जानी।

इस आर्टिकल को पूरा पढ़ने के बाद मुझे उम्मीद है की स्टॉक मार्केट और स्टॉक मार्केट इन्वेस्टमेंट को लेकर आपके सारे सवालों के जवाब मिल चुके होगे और फिर भी स्टॉक मार्केट से जुड़ी और जानकारी शामिल करवाना चाहते हैं या कोई सवाल है तो नीचे कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।

Also Read:

Stock Market क्या है? स्टॉक मार्केट कैसे काम करता है?” आर्टिकल को अपने सोशल मीडिया पर शेयर जरूर करे।

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

0 / 5. Vote count: 0

No votes so far! Be the first to rate this post.

We are sorry that this post was not useful for you!

Let us improve this post!

Tell us how we can improve this post?

Sarkari Eye
हम Sarkarieye.com वेबसाइट पर आपको सरकारी योजना, Career Tips, ऐतिहासिक स्मारकों, घूमने की जगहों की जानकारी, इंटरनेट से संबंधित जानकारियां और लेटेस्ट जॉब अप्डेट्स के बारे में शेयर करते हैं।